breaking news New

सूरत में बच्ची के साथ दरिंदगी, रेपिस्टों पर जनता ने रखा इनाम

सूरत। 11 साल की बच्ची के साथ रेप करने वाले आरोपी को ढूंढने वाले को इनाम देने की घोषणा की गई है। आम नागरिकों ने रेप के आरोपी का नाम और पता बताने वालों के लिए इनाम देने की बात कही है। अब तक पीड़ित बच्ची की पहचान नहीं हो पाई है। पुलिस ने 20,000 रुपए का इनाम बच्ची के बारे में जानकारी देने के लिए रखा है, पोस्टर लगवाए हैं और कई टीमें सुराग जुटाने में लग चुकी हैं।

बच्ची का शव 6 अप्रैल को मिला था। फोरेंसिक जांच में बच्ची से बलात्कार, गला दबाकर हत्या और शरीर पर चोटों के 86 निशान होने की बात सामने आई थी। बच्ची की लाश जिस स्थिति में पाई गई थी, उससे उसके साथ की गई क्रूरता का पता चलता है। उसके दांतों पर खून के साथ-साथ गाल पर आंसू तक सूख गए गए थे।

मामले की जांच सूरत क्राइम ब्रांच को सौंपी जा चुकी है। गुजरात पुलिस ने सूरत में लगभग 1200 और उत्तर गुजरात में 1000 पोस्टर और बैनर लगवाए हैं। गुजरात पुलिस की लगभग 20 टीमें केस की जांच में जुट चुकी हैं। सूरत के पुलिस कमिश्नर सतीश शर्मा ने बताया कि उनकी टीमें जिस जगह बच्ची का शव पाया गया था, वहां 4 किलोमीटर के दायरे में एक-एक दरवाजे पर जाकर पूछताछ कर रही हैं। आसपास के इलाकों के सीसीटीवी फुटेज खंगाले जा रहे हैं।

आशंका जताई जा रही है कि हो सकता है वारदात को अंजाम कहीं और दिया गया हो और शव उस जगह फेंक दिया गया हो। उन्होंने बताया कि गुजरात, राजस्थान और महाराष्ट्र से लापता हुई लगभग 8000 लड़कियों का डेटा खोजा जा चुका है लेकिन इस बच्ची के बारे में कोई जानकारी नहीं मिली है। बच्ची की तस्वीरें ओडिशा, पश्चिम बंगाल, मध्य प्रदेश, बिहार और दूसरे राज्यों को भेज दी गई हैं।

लोकल डिवेलपर तुषार घेलानी ने बच्ची या आरोपियों के बारे में जानकारी देने पर पुलिस से भी ज्यादा 5 लाख रुपए का इनाम रखा है। उन्होंने कहा कि कई बार लोग जानकारी देने के लिए आगे नहीं आते। वह उम्मीद करते हैं कि कैश के लिए वह जानकारी देंगे। जानकारी देने वाले की पहचान गुप्त रखी जाएगी और उन्हें किसी से डरना नहीं होगा। वहीं, सूरत डायमंड असोसिएशन के सदस्य आला पुलिस अधिकारियों से मिले हैं और वे बड़े इनाम की घोषणा कर सकते हैं।

वहीं, मशहूर बिजनसमैन आनंद महिंद्रा ने भी बेहद गुस्से में ट्वीट किया है- ‘जल्लाद का काम कोई ऐसा नहीं होता कि कोई करना चाहे लेकिन बच्चियों के साथ निर्दयता से रेप और हत्या करने वालों को सजा देने के लिए मैं बिना हिचक यह काम करूंगा। मैं शांत रहने के लिए बहुत मेहनत करता हूं लेकिन जब देश में ऐसा होता है तो मेरा खून खौलता है।’

वहीं गुजरात विधानसभा में विपक्ष के नेता परेश धनानी ने राज्य में बढ़ती रेप की घटनाओं और घटते लिंग अनुपात को लेकर राज्य सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा, ‘2011 में लिंग अनुपात 1000 पुरुषों पर 919 महिलाओं का था जबकि 2017 में यह घटकर 1000 पुरुषों पर 854 महिलाओं तक आ गया है। ऐसा लगता है कि बेटियों को मां की कोख से बाहर आने में ही डर लगता है।’

उन्नाव और कठुआ की घटनाओं से विचलित लोग सूरत की घटना सामने आने पर सड़कों पर उतर चुके हैं। शहर में जगह-जगह कैंडल मार्च और रैलियां की गईं। इनमें डॉक्टर्स, चार्टर्ड अकाउंटेंट, बैंकर, स्टूडेंट हर वर्ग शामिल हुआ। लोगों ने देशभर में महिलाओं के खिलाफ हो रहे अपराधों और पुलिस और सरकारों की निष्क्रियता के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password