breaking news New

जवान चाहे अमेरिकी हों या ब्रिटिश, हाथ में होगी ‘मेड इन इंडिया’ गन

नई दिल्ली। बोर्डर कोई भी हो। जवान अमेरिका के हो या लंदन के, उनके हाथ में ‘मेड इन इंडिया’ गन होगी। यूएस और यूके के मिलिट्री और स्पेशल फोर्स द्वारा उपयोग में लाए जाने वाले एसाल्ट और स्निपर राइफल्स पर मेक इन इंडिया का टैग होगा। एसाल्ट राइफल्स और स्माल आर्म्स को चेन्नई के एक प्लांट में बनाया जाएगा। इसके लिए एक निजी हथियार निर्माता कंपनी ने विदेशों में बनने वाले हथियारों की कंपनी के साथ एग्रीमेंट किया है। देश की पांच से अधिक कंपनियों ने अपने प्लान को तिरुवेदांती में आयोजित डिफेंस एक्सपो 2018 में साझा किया।

इन प्लांट्स में बने हथियार मौजूदा समय में भारतीय सेना द्वारा प्रयोग में लाए जाने वाले हथियारों से कहीं ज्यादा आधुनिक तकनीकी से बने होंगे और यह हथियार तकनीक के आदान-प्रदान डील के तहत विदेश भेजा जाएगा। यूएस के डिजर्ट टेक्नोलॉजी, लिवाइस मशीन एंड टूल्स कंपनी और ऑस्ट्रेलिया के स्टेयर मैनलिसर कंपनी के द्वारा बनाई जाने वाली स्माल आर्म्स, एसाल्ट राइफल्स और स्नाइपर राइफल्स को अब भारतीय कंपनियां बनाएंगी।

नैको डिजर्ट टेक्नोलॉजी के मैनेजिंग डायरेक्टर ने कहा कि हमने तकनीक के आदान-प्रदान के तहत एक जेवी कंपनी बनाई है, जिसके लिए भारत सरकार की ओर से हमें डेढ़ महीने पहले ही लाइसेंस मिल चुका है। आने वाले कुछ महीनों में हम एसाल्ट राइफल्स का निर्माण कार्य शुरू करने वाले हैं। ये राइफल्स सीजेक रिपब्लिक, यूएई, लिथूनिया, थाइलैंड और कुछ अन्य देशों के द्वारा प्रयोग में लाए जा रहे हैं। स्टंप श्यूल एंड सोमप्पा के मैनेजिंग डाइरेक्टर सतीश मचानी ने कहा कि हमने लाइसेंस के लिए आवेदन कर दिया है। जैसे ही लाइसेंस मिलता है, हम इस साल के अंत तक हथियारों के निर्माण का कार्य शुरू करा देंगे। आपको बता दें कि सीबीएस दुनिया की दूसरी आयुध बनाने वाली कंपनी है जो भारत में आने को लेकर विचार कर रही है।

 

मचानी ने कहा कि बंदूकों का प्रयोग यूएस, यूके और न्यूजीलैंड के द्वारा किया जा रहा है। हमारी मौजूदा योजना के अनुसार इन्हें बेंगलुरु में बनाया जाएगा। वहीं आयुध को चेन्नई में बनाया जाएगा। विदेशी सहयोगियों के एक प्रतिनिधि ने बताया कि जिन हथियारों का निर्माण भारत में किया जाएगा उन्हें मिडिल ईस्ट और साउथ ईस्ट एशिया के देशों को निर्यात
किया जाएगा।

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password