breaking news New

नेपाल की यह मांग कर सकती है हैरान

Shailendra Shukla

नई दिल्ली: नेपाल के प्रधानमंत्री तीन दिवसीय भारत दौरे पर पहुंच चुके हैं। विभिन्न दिव्पक्षीय मसलों पर बातचीत हो रही है, लेकिन अगर भारत नेपाल की एक शर्त मान लेता है तो उसे बड़ा नुकसान उठाना पड़ सकता है। यह मांग है एक हजार और पांच सौ के पुराने नोटों को बदलने की मांग।

दरअसल, नेपाली पीएम ओली अपनी इस यात्रा के दौरान नवंबर 2016 में भारत में बंद हुए 500 और 1000 के पुराने नोटों को बदलने की फिर से मांग उठा सकते हैं। नेपाल कई बार भारत से पुराने नोटों को बदलने के लिए कह चुका है। मगर तब से लेकर अब तक ये बात आगे नहीं बढ़ी। अब माना जा रहा है कि नेपाल के प्रधानमंत्री खुद पीएम नरेंद्र मोदी से मिलकर ये बात उठाएंगे। बता दें कि नेपाल के पास करीब साढ़े नौ अरब कीमत के पुराने नोट हैं।

 

भारत की नोटबंदी को लेकर PM ओली ने कहा कि भारत में हुई नोटबंदी से नेपाली नागरिकों को नुकसान हुआ है। मैं भारतीय नेताओं के साथ मुलाकात के दौरान ये मुद्दा उठाऊंगा। मैं कहूंगा कि वो इस मामले को सुलझाएं।

तस्करों की हो जाएगी चांदी:

अगर भारत नेपाल की अनुरोध को मान लेता है तो तस्करों की चांदी होना तय है। अगर सतर्कता नहीं बरती है तो भारत को भारी नुकसान झेलना पड़ सकता है। पहला तो यह कि साढ़े नौ अरब रुपए सीधा-सीधा नेपाल को देना पड़ेगा और दूसरा भारत में भी ऐसे बहुत से लोग हैं जो आज भी बैन नोटों को जमा करके रखे हुए हैं वह भी इस उम्मीद में कि कभी न कभी इन नोटों को चलन में लाया जाएगा।

हजार के बदले मिलेंगे 100 रुपए:

नेपाली पीएम के भारत दौरे से पहले ही यह सूचना मिली है कि एक हजार और पांच सौ के पुराने नोटों को नेपाल में भेजे जाने का काम आसामाजिक तत्वों द्वारा संभवत: शुरू किया जा चुका है। इतना ही नहीं पुराने नोटों के बदले यानि एक हजार के नोट के बदले तस्कर लोगों को 100 रुपए और पांच सौ रुपए के नोट के बदले तस्कर 50 रुपए देने को तैयार हैं। यानि एक हजार के बदले 950 रुपए और पांच सौ के बदले 450 रुपए तस्करों की जेब में जाना तय है।

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password