breaking news New

बिजली बिल आया 521, ले लिया 840…फिर कहा; जो कर सकते हो कर लो

राहुल बंसल
लोनी। ट्रोनिका सिटी थाना क्षेत्र के मंडोला गांव निवासी एक विद्युत उपभोक्ता ने पावी विद्युत उपकेंद्र के कर्मचारियों पर बिल वसूली में धांधली का आरोप लगाया है। पीड़ित ने इस संबंध में थाने में विद्युत विभाग के विरुद्ध तहरीर दी है।

मंडोला गांव निवासी सुनील कुमार पुत्र मनसूरत ने थाने में दी गई तहरीर में उल्लेख किया है कि वह पश्चिमांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड की सब डिविजन पावी का उपभोक्ता है। उसका आरोप है कि वर्ष 2018 जनवरी, फरवरी व मार्च महीने का बिजली का बिल जमा कराने पावी उपकेंद्र पर गया था। बिजली विभाग द्वारा इन महीनों के बिल नहीं भेजे गए थे। जब वह उपकेद्र पावी गया तो बिजली विभाग के कर्मचारियों ने उससे 650 रुपए जमा करा लिए और कहा कि जब अगले महीने बिल आएगा तो यह राशि उसमें से घटाकर बिल जमा कर लिया जाएगा। सुनील का कहना है कि 21 अप्रैल 2018 को जब बिल जमा कराने गया तो 840 रुपए प्रति माह की दर से बिल लिया गया। उसके बाद वह 8 मई को फिर से अप्रैल महीने का बिल जमा कराने पहुंचा तो उससे बिजली विभाग के कर्मचारियों ने 840 रुपए जमा कराए  और पहले जमा कराए हुए 650 रुपए कम नही किए।

शिकायतकर्ता सुनील

सुनील के मुताबिक उसका ऑनलाईन बिल 521 रुपए था।लेकिन कर्मचारियों ने उसे 840 रुपए वसूल लिए। उसने जब इसकी शिकायत बिल काउंटर पर बिल जमा करने वाले कर्मचारी से की। आरोप है कि बिल काउंटर पर बैठे कर्मचारी ने ये कहते हुए उसको भगा दिया, जो कर सकते हो कर लो इतने ही पैसे लिए जाएंगे। इसके आलावा सुनील द्वारा दी गई तहरीर में मंडोला गांव निवासी मनोज से विद्युत कर्मियों द्वारा अधिक बिल वसूलने का आरोप लगाया गया है। सुनील कुमार ने प्रदेश के मुख्यमंत्री, जिलाधिकारी गाजियाबाद, एसडीएम लोनी, एससी मरेठ पीवीवीएनएल व अधिशासी अभियंता आदि अधिकारियों को पत्र भेजकर पावी विद्युत उपकेंद्र के कर्मचारियों एंव अधिकारियों पर बिल वसूली में धंधली कर उपभोक्ताओं से अवैध धन की वसूली करने का आरोप लगाया है।

यह बिजली विभाग की बिल वसूली की धांधली का कोई पहला मामला नहीं है। इसे पहले भी ऐसे अनेकों मामले सामने आ चुके है। लेकिन बिजली विभग के कर्मचारी सुधरने का नाम नही ले रहे है।

0 Comments

Leave a Comment