नासा के इतिहास में पहली बार चार में से तीन विभागों की कमान संभाल रही हैं महिलाएं

वॉशिंगटन। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा में महिलाओं का वर्चस्व बढ़ता जा रहा है। इतिहास में पहली बार नासा के चार में से तीन विज्ञान प्रभागों की कमान महिलाएं संभाल रही हैं। द अर्थ साइंस डिवीजन को सैंड्रा कॉफमैन, हेलियोफिजिक्स को निकोला फॉक्स और प्लेनेटरी साइंस डिवीजन को लोरी ग्लेज बखूबी संभाल रही हैं। इस बीच अमेरिकी स्पेस एजेंसी ने घोषणा की है कि वह अगले चंद्र अभियान पर पहली महिला को भेजेगा।

इतना ही नहीं, नासा के 12 अंतरिक्ष यात्रियों की टीम में से पांच महिलाएं हैं। फिर भी नासा के प्रशासक के रूप में एक महिला ने कभी भी पूरी अंतरिक्ष एजेंसी का नेतृत्व नहीं किया है। यह बात अपने आप में इस लिए अहम है क्योंकि अमेरिकी सरकार के सबसे शक्तिशाली पदों पर महिलाओं का प्रतिनिधित्व बेहद कम है। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की कैबिनेट के 21 सदस्यों में से महज चार ही महिलाएं हैं। देश की आबादी में महिलाओं की संख्या 51 फीसद है फिर भी कांग्रेस में सिर्फ महिलाओं का प्रतिनिधित्व 24 फीसद ही है।

हेलियोफिजिक्स डिवीजन की निदेशक निकोला फॉक्स यह देखती हैं कि सूर्य हमारे ग्रह और बाकी सौर मंडल पर कैसे प्रभाव डालता है। साथ ही वह यह भी पता करती हैं कि हम अपने अंतरिक्ष यात्रियों, उपग्रहों और रोबोट मिशनों की सुरक्षा कठोर विकिरण से कैसे कर सकते हैं। उधर, प्लेनेटरी साइंस डिवीजन की डायरेक्टर लोरी ग्लेज के नेतृत्व में मंगल ग्रह पर साल 2020 में कार के आकार के अगला रोवर की लैंडिंग को देखेंगी।

वह इस सवाल का जवाब भी तलाश रही हैं कि क्या हमारे ग्रह के बाहर सौर मंडल में जीवन है? फिलहाल, इस बात के कोई साक्ष्य नहीं मिले हैं कि कहीं और जीवन मौजूद है। मगर, ग्लेज की टीम इसकी जांच कर रही है। अर्थ साइंस डिवीजन की एक्टिंग डायरेक्टर सैंड्रा कॉफमैन हमारे ग्रह को समझने के नासा के सबसे महत्वपूर्ण मिशन पर काम कर रही हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed