वीडियोकॉन लोन मामले में ईडी ने की चंदा कोचर और उनके पति से की नौ घंटे पूछताछ

नई दिल्ली। आईसीआईसीआई बैंक की पूर्व सीईओ और एमडी चंदा कोचर व उनके पति दीपक कोचर से सोमवार को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने नौ घंटे पूछताछ की। वह दूसरी बार ईडी के सामने पेश हुए थे। उनसे वीडियोकॉन लोन घोटाले व मनी लांड्रिंग के मामले को लेकर सवाल-जवाब किए गए थे। उन्हें मंगलवार को फिर तलब किया गया है।

बताते चलें कि ईडी ने इस साल की शुरुआत में चंदा कोचर, उनके पति दीपक कोचर, वेणुगोपाल धूत व अन्य के खिलाफ मनी लांड्रिंग कानून के तहत एक आपराधिक मामला दायर किया है। यह वीडियोकॉन को आईसीआईसीआई बैंक से 1875 करोड़ रुपए का कर्ज दिलाने में धांधली व भ्रष्ट तरीके अपनाने से संबंधित है। सीबीआई द्वारा केस दायर करने के बाद ईडी ने मामला दर्ज किया था।

इस मामले में ईडी ने एक मार्च को उनके व वीडियोकॉन के प्रमुख वेणुगोपाल धूत के परिसरों पर छापे मारे थे। इसके बाद दोनों से मुंबई में भी कई बार पूछताछ की गई थी। नई दिल्ली के खान मार्केट इलाके में स्थित ईडी के दफ्तर में कोचर दंपती सुबह करीब 10.35 बजे पहुंच गए थे। वे पूछताछ के बाद रात करीब 7.45 बजे बाहर निकले। ईडी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि हमने उन्हें पूछताछ के लिए मंगलवार को फिर बुलाया है।

पहले इस माह के आरंभ में वे पेश होने वाले थे। मगर, बाद में उन्होंने कुछ मोहलत मांगी थी, जो दे दी गई थी। ईडी ने चंदा कोचर के देवर राजीव कोचर से भी कुछ दिनों पहले कई बार पूछताछ की थी। इसी मामले में सीबीआई भी राजीव कोचर से पूछताछ कर चुकी है। वह सिंगापुर स्थित एविस्टा एडवायजरी के संस्थापक हैं। सूत्रों ने बताया कि सीबीआई ने भी उनसे कर्ज की पुनर्संरचना को लेकर सवाल-जवाब किए थे। राजीव से पूछा गया था कि 20 बैंकों के कंसोर्टियम से धूत को 400 अरब रुपए के कर्ज दिलाने में उन्होंने क्या मदद की थी?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed