SBI का एनपीए एक फीसदी घटा, घाटे से मुनाफे की तरफ बढ़ रहा है बैंक

मुंबई। सार्वजनिक क्षेत्र के सबसे बड़े बैंक स्टेट बैंक धीरे-धीरे घाटे से फायदे की तरफ बढ़ रहा है। वित्त वर्ष 2018-19 की चौथी तिमाही में एसबीआई को 838.4 करोड़ रुपए का मुनाफा हुआ, जबकि वित्त वर्ष 2017-18 की समान तिमाही में बैंक को 7,718 करोड़ रुपए का घाटा हुआ था। वहीं, जनवरी मार्च तिमाही में एसबीआई की ब्याज आय 14.9 प्रतिशत बढ़कर 22,954 करोड़ रुपए हो गई।

वित्त वर्ष 2017-18 की चौथी तिमाही में एसबीआई की ब्याज आय 19,974 करोड़ रुपए रही थी। तीसरी तिमाही के मुकाबले चौथी तिमाही में एसबीआई का ग्रॉस एनपीए 8.71 से घटकर 7.53 फीसदी और नेट एनपीए 3.95 से घटकर 3.01 फीसदी रह गया। यह बैंक की एसेट क्वालिटी में सुधार का मजबूत संकेत है।

केनरा बैंक को घाटा

बीते वित्त वर्ष की चौथी तिमाही में केनरा बैंक को 551.5 करोड़ रुपए का घाटा हुआ। वहीं, वित्त वर्ष 2017-18 की चौथी तिमाही में इस सरकारी बैंक ने 4,859.8 करोड़ रुपए का घाटा उठाया था। सालाना आधार पर जनवरी-मार्च तिमाही में केनरा बैंक की ब्याज आय 17.2 फीसदी बढ़कर 3,500 करोड़ रुपए हो गई। तिमाही दर तिमाही आधार पर चौथी तिमाही में केनरा बैंक का ग्रॉस एनपीए 10.25 से घटकर 8.83 फीसदी और नेट एनपीए 6.37 से घटकर 5.37 फीसदी रह गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed