फेशियल रिकग्निशन सॉफ्टवेयर को बैन करने वाला अमेरिका का पहला शहर बना सैन फ्रांसिस्को

वॉशिंगटन। सैन फ्रांसिस्को अमेरिका का पहला शहर बन गया है, जिसने फेशियल रिकग्निशन सॉफ्टवेयर (चेहरे की पहचान करने वाले सॉफ्टवेयर) के उपयोग पर प्रतिबंध लगा दिया है। नए कानून के तहत मंगलवार से अमेरिकी एजेंसियों और पुलिस द्वारा चेहरे की पहचान करने वाले सॉफ्टवेयर के इस्तेमाल पर बैन होगा। इससे देश में कानून का प्रवर्तन कराने वाली एजेंसियों द्वारा तेजी से तैनात की जा रही प्रमुख तकनीक को झटका लग सकता है।

शहर के बोर्ड ऑफ सुपरवाइजर्स ने आठ के बदले एक वोट से प्रस्ताव को खारिज कर दिया है। अब वीडियो क्लिप या फोटोग्राफ के आधार पर किसी की पहचान का पता लगाने के लिए आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल सार्वजनिक एजेंसियां नहीं कर सकेंगी। गोपनीयता और नागरिक अधिकारों के पैरोकारों की चिंता है कि सामूहिक निगरानी के लिए क्षमता का दुरुपयोग किया जा सकता है और संभवतः अधिक झूठी गिरफ्तारियां हो सकती हैं।

यूनिवर्सिटी ऑफ वॉशिंगटन में कानून के छात्र जेवन हटन ने वॉशिंगटन में चेहरे की पहचान के लिए पाबंदी लगाने की वकालत की थी। कानून स्थानीय व्यवसायों को रेगुलेट नहीं करेगा। इस तकनीक का अभी भी अमेरिका में बड़े पैमाने पर इस्तेमाल हो रहा है और इस पर कोई नियंत्रण नहीं है। सैन फ्रांसिस्को के प्रतिबंध का दूरगामी असर होगा क्योंकि यहां की पहचान गूगल और फेसबुक सहित दुनिया की कुछ सबसे शक्तिशाली तकनीकी फर्मों के लिए अनुकूल शहर के रूप में है। इन कंपनियों के इंजीनियरों ने व्यवसाय और उपभोक्ता उपयोग के लिए चेहरों की पहचान और उनका पता लगा सकने वाले सिस्टम तैयार किए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed