SCO Meeting : शी जिनपिंग और पुतिन से द्विपक्षीय वार्ता करेंगे मोदी, पाकिस्तान को किया किनारे

नई दिल्ली। लोकसभा चुनावों में प्रचंड बहुमत हासिल कर दोबार सरकार बनाने जा रहे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 13 और 14 जून को किर्गिस्तान के बिश्केक में शंघाई कोऑपरेशन ऑर्गनाइजेशन (SCO) सम्मेलन में भाग लेंगे। इस बैठक से इतर पीएम मोदी चीन के राष्ट्रपति शी जिनफिंग और रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ द्विपक्षीय बैठक करेंगे। नई सरकार बनने के बाद अंतरराष्ट्रीय नेताओं के साथ यह उनकी पहली मुलाकात होगी।

इस बैठक में पाकिस्तानी पीएम इमरान खान भी मौजूद रहेंगे। बताया जा रहा है कि पीएम मोदी की उनसे मुलाकात हो सकती है, लेकिन दोनों नेताओं के बीच द्विपक्षीय बैठन की योजना नहीं है। अधिकारिक सूत्रों के अनुसार, इस संभावना से इनकार नहीं किया जा जा सकता कि दोनों नेताओं के बीच अनौपचारिक बैठक हो सकती है। मगर, भारत और पाक के बीच अभी तक द्विपक्षीय बैठक का कोई कार्यक्रम तय नहीं है।

बताते चलें कि शी जिनपिंग के साथ मोदी की मुलाकात इसलिए भी अहम है क्योंकि संयुक्त राष्ट्र में जैश के आतंकी मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने के लिए चीन ने टेक्निकल होल्ड लगा रखा था। इसे हटाने के बाद मोदी और जिनपिंग की यह पहली मुलाकात होगी। हालांकि, भारत में मोदी और जिनपिंग की एक और अनौपचारिक बैठक की तारीख तय करने पर विचार किया जा रहा है। जा रहे हैं। इस तरह की पहली अनौपचारिक मुलाकात चीन के वुहान में पिछले साल हुई थी।

अधिकारियों ने यह भी साफ किया कि पीएम मोदी के शपथ कार्यक्रम में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री को न्योता नहीं देने के कोई अर्थ नहीं निकालने चाहिए। दरअसल, भारत ने पाकिस्तान के अलावा अफगानिस्तान और मालदीव जैसे अपने खास पड़ोसियों को भी इस अवसर के लिए न्योता नहीं भेजा है।

बताते चलें कि पुलवामा आतंकी हमले और फिर पाकिस्तान के बालाकोट में भारत की एयर स्ट्राइक के बाद से ही दोनों देशों के बीच तनाव चरम पर पहुंच गया था। पीएम मोदी ने पाकिस्तान के राष्ट्रीय दिवस के मौके पर इमरान खान को पत्र लिखा कर दोनों देशों को आतंक और हिंसा रहित माहौल में मिलकर काम करने की जरूरत पर जोर दिया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed