बुलेटप्रूफ वाहनों की खरीद में शरीफ से जेल में पूछताछ

लाहौर। भ्रष्टाचार के मामले में जेल की सजा काट रहे पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ एक नए मामले में घिर गए हैं। पाकिस्तान की भ्रष्टाचार रोधी एजेंसी राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो (एनएबी) ने अवैध रूप से 30 से ज्यादा बुलेटप्रूफ वाहनों की खरीद के मामले में सोमवार को 69 वर्षीय शरीफ से जेल में पूछताछ की। इस पूछताछ के लिए एनएबी की चार सदस्यीय टीम यहां कोट लखपत जेल पहुंची थी।

एनएबी के अनुसार, साल 2016 में 19वें सार्क सम्मेलन में आने वाले अतिथियों के लिए 34 बुलेटप्रूफ कार जर्मनी से मंगवाई गई थीं। किसी भी कार के लिए सीमा शुल्क का भुगतान नहीं किया गया था। यही नहीं, शरीफ ने इनमें से 20 कारों को अपने वाहनों के काफिले में शामिल कर लिया था। शरीफ और उनकी बेटी मरयम ने इन वाहनों को निजी तौर पर भी इस्तेमाल किया।

इस मामले में पूर्व प्रधानमंत्री और शरीफ की पार्टी पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) के वरिष्ठ नेता शाहिद खाकन अब्बासी के बयान पहले ही दर्ज हो चुके हैं। एनएबी का कहना है कि विदेश मंत्रालय के अधिकारियों ने भी शरीफ के परिवार को बुलेटप्रूफ वाहन आवंटित करने में अपने अधिकारों का दुरुपयोग किया। शरीफ अल-अजीजिया स्टील मिल्स मामले में सजा काट रहे हैं।

इस मामले में एनएबी अदालत ने पिछले साल 24 दिसंबर को उन्हें सात साल जेल की सजा सुनाई थी। पनामा पेपर मामले में सुप्रीम कोर्ट द्वारा किसी संवैधानिक पद के लिए अयोग्य ठहराए जाने के बाद शरीफ को जुलाई, 2017 में प्रधानमंत्री पद से इस्तीफा देना पड़ा था। पाक चुनाव आयोग में मरयम के खिलाफ अर्जीपाकिस्तान के चुनाव आयोग ने पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की बेटी मरयम के खिलाफ दी गई एक अर्जी सोमवार को स्वीकार कर ली।

इसमें मरयम को पीएमएल-एन का उपाध्यक्ष बनाए जाने को इस आधार पर चुनौती दी गई है कि वह भ्रष्टाचार के मामले में दोषी ठहराए जाने के कारण सार्वजनिक पद पर रहने के अयोग्य हैं। पिछले साल जुलाई में एनएबी की अदालत ने मरयम को सात साल की सजा सुनाई थी। यह अर्जी प्रधानमंत्री इमरान खान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ के सदस्यों की ओर से दी गई है। आयोग इस अर्जी पर 17 जून को सुनवाई करेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed