पित्रोदा के बाद मणिशंकर ने बढ़ाई कांग्रेस की मुश्किल, अपने विवादित बयान को ठहराया सही

नई दिल्ली। पहले सैम पित्रोदा और अब मणिशंकर अय्यर ने कांग्रेस के लिए परेशानी खड़ी कर दी है। मणिशंकर ने दो साल पहले पीएम मोदी को ‘नीच’ बताने वाले अपने बयान को सही ठहराते हुए एक लेख लिखा है। इसे लेकर राजनीति गर्मा गई है और बवाल मच रहा है। गौरतलब है कि गुजरात विधानसभा चुनाव के दौरान अय्यर ने मोदी को नीच आदमी कहा था, जिसके बाद राहुल गांधी ने कार्रवाई करते हुए उन्हें पार्टी से निकाल दिया था।

इस बयान पर काफी बवाल मचा था और बाद में मणिशंकर ने माफी मांगी थी। हालांकि, अब फिर उन्होंने अपने बयान को सही ठहरा दिया है। अय्यर ने पीएम मोदी पर अपनी शिक्षा को लेकर झूठ बोलने का आरोप भी लगाया है। अय्यर यहीं नहीं रुके उन्होंने पीएम मोदी को देशद्रोही और गंदी जुबान वाले प्रधानमंत्री तक कह दिया। इस फजीहत से बचने के लिए कांग्रेस ने अय्यर के बयान से पल्ला झाड़ लिया है और उनके लेख को निजी विचार बताया है।

इससे पहले सैम पित्रोदा ने 84 के सिख दंगों को लेकर कहा था- जो हुआ, सो हुआ। इसके बाद पार्टी बचाव की मुद्रा में आई और राहुल गांधी ने सैम पित्रोदा के बयान की सार्वजनिक निंदा की। इसके बाद मणिशंकर अय्यर के इस बयान ने कांग्रेस की मुसीबत बढ़ा दी है।

बताते चलें कि गुजरात चुनाव के समय मणिशंकर अय्यर ने पीएम मोदी के लिए ‘नीच’ शब्द का इस्तेमाल किया था। तब अय्यर ने सफाई देते हुए कहा था कि उनकी हिंदी कमजोर है उन्होंने अंग्रेजी के लो शब्द का इस्तेमाल ‘नीच’ कर दिया। तब भी अय्यर के इस बयान की वजह से कांग्रेस को काफी नुकसान पहुंचा था।

वहीं, साल 2014 के चुनाव में मणिशंकर ने ही नरेंद्र मोदी के लिए ‘चायवाला’ बोला था और अय्यर के इस बयान को पीएम मोदी ने चुनावी अभियान का हिस्सा बना लिया था। मणिशंकर अय्यर के बयान वाले मुद्दे को लपकते हुए बीजेपी ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को घेर लिया है। बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा आखिरकार गांधी परिवार के ‘मणि’ ने मोदी जी के लिए ‘नीच’ वाले अपने बयान को सही बताकर 2019 लोकसभा चुनाव में राहुल गांधी की प्रेम की राजनीति’ में अपना योगदान दे दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed