थ्येनआनमन नरसंहार की बरसी पर हांगकांग में हुई शोकसभा

हांगकांग। बीजिंग के थ्येनआनमन चौक नरसंहार की 30वीं बरसी पर हांगकांग में लाखों लोगों ने शोक मनाया। चीन के स्वायत्तशासी क्षेत्र हांगकांग के विक्टोरिया पार्क में शोक मनाने के लिए जुटे लोगों में से कई ने काले कपड़े पहन रखे थे। आयोजकों के मुताबिक, पार्क में करीब एक लाख 80 हजार लोग मौजूद थे।

उधर, पुलिस ने इस दावे का खंडन करते हुए कहा कि सभा में महज 40 हजार लोग ही मौजूद थे। हालांकि, दूर-दूर तक केवल मोमबत्तियों की रोशनी दिखाई दे रही थी। बताते चलें कि चीन की सेना ने चार जून, 1989 को लोकतंत्र के समर्थन में थ्येनआनमन चौक पर आंदोलन कर रहे छात्रों पर टैंक चढ़ा दिए थे। अनुमान है कि इस घटना में एक हजार से ज्यादा लोग मारे गए थे।

चीन के ज्यादातर हिस्सों में इस घटना की चर्चा करने पर भी पाबंदी है। हालांकि, चीन ने वर्ष 1989 में राजधानी बीजिंग के थ्येनआनमन चौक पर लोकतंत्र समर्थकों के खिलाफ अपनी बर्बरतापूर्ण कार्रवाई को सही ठहराया है। चीन के रक्षा मंत्री वेई फेंघ ने रविवार को सिंगापुर में क्षेत्रीय सुरक्षा फोरम में कहा- वह घटना राजनीतिक उथल-पुथल थी। चीन सरकार ने उस संकट को रोकने के लिए जो कदम उठाए वह सही थे।

चीन की सख्ती के बावजूद हांगकांग और मकाऊ में नरसंहार के पीड़ितों को हर साल श्रद्धांजलि दी जाती है। हांगकांग में शोक सभा के दौरान विद्रोही गीत भी गाए गए। लोगों ने उस घटना को कभी न भूलने और चीन की झूठी बातों को नहीं मानने के नारे भी लगाए।

इस शोक सभा में प्रत्यर्पण संबंधी नए कानून के विरोध में भी पोस्टर लहराए गए। गौरतलब है कि हांगकांग में एक नया कानून प्रस्तावित किया गया है, जिसमें अपराधियों को सीधे चीन में प्रत्यर्पित किए जाने का प्रावधान है। कई लोगों को डर है कि इस कानून से हांगकांग की स्वतंत्रता खतरे में पड़ जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed