एयर चीफ मार्शल ने कहा ‘गेमचेंजर’ साबित होगा Rafale

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव में राफेल विमान सुर्खियों में रहा। इसकी खरीद को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कई बार सवाल उठाए। मगर, भारतीय वायुसेना प्रमुख बीएस धनोआ ने लड़ाकू विमान राफेल को लेकर बड़ा बयान दिया है।

धनोआ ने कहा कि साल 2002 में जब ऑपरेशन पराक्रम हुआ था, तो पाकिस्तान के पास भारत का मुकाबला करने की हवाई क्षमता नहीं थी। मगर, बाद में पाकिस्तान ने अपनी तकनीक को अपग्रेड कर लिया। हालांकि, भारतीय वायुसेना को राफेल मिलने के बाद एक बार फिर हमारी ताकत एक बार फिर पाकिस्तान से बढ़ जाएगी और पाकिस्तान तब नियंत्रण रेखा पर आने से डरेगा।

फ्रांस द्वारा तैयार किए गए इस फाइटर प्लेन को आधुनिक तकनीक से लैस है। बताते चलें कि बीते कुछ वर्षों में भारत और पाक के बीच रिश्तों में और तल्खी आई है। हाल ही में पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद भारत और पाक खुलकर आमने सामने भी आ चुके हैं। लिहाजा, भारत की हवाई क्षमता को बेहतर करने को लेकर भारत का विशेष जोर है।

बताते चलें कि बालाकोट में भारतीय वायुसेना की सर्जिकल स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान ने 27 फरवरी को भारतीय सीमा में घुसपैठ करने की कोशिश की थी। पाकिस्तान के एफ-16 विमान को भारत के उड़न ताबूत कहे जाने वाले मिग-21 बायसन विमान को उड़ा रहे विंग कमांडर ने खदेड़ कर मार गिराया था। हालांकि, इस दौरान उनका विमान भी क्षतिग्रस्त हो गया था और विंग कमांडर को पाकिस्तानी सेना ने गिरफ्तार कर लिया था। अगर भारत के पास राफेल होता, तो कहानी कुछ और हो सकती थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed